डॉक्टर और नर्सों ने कहा- हम बिखर रहे हैं; दोनों देशों में कोरोना के कुल मरीजों में 10% से 13% हेल्थ वर्कर्स शामिल

मैड्रिड. कोरोनावायरस से स्पेन और इटली में स्वास्थ्य सेवाएं बेहद प्रभावित हुईहैं। दुनियाभर में अपने हेल्थ केयर सिस्टम की वजह से मशहूर इन देशों में सुरक्षा उपकरणों, सूट और मास्क तक की किल्लत है। संक्रमण की चपेट में कई डॉक्टर और नर्स भी आ चुकी हैं। मैड्रिड के ला पाज हॉस्पिटल के इमरजेंसी वार्ड में काम करने नर्स पैट्रीशिया ने न्यूज एजेंसी से कहा, ‘‘जब मुझे खांसी शुरू हुई, तब तकमैंहफ्तों से मरीजों की सूखी और भयावह खांसी सुनने की आदी हो चुकी थी। अस्पताल संक्रमित मरीजों से भरा हुआ है।खांसी सुनते-सुनतेहम तंग आ गए हैं। मुझे ठीक होने का बेसब्री से इंतजार है, ताकि साथियों पर पड़ने वाले ओवरलोड को कुछ कम कर सकूं।’’पैट्रीशियापिछले हफ्ते ही कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं।

14 फ्लोर के अस्पताल में 11 फ्लोर कोरोना के मरीजों से भरे हैं
कोरोनावायरस से दुनियाभर के डॉक्टर लड़ रहे हैं। लेकिनइटली और स्पेन में वे ये जंग हारते नजर आ रहे हैं, क्योंकि इन दोनों देशों मेंसुरक्षा उपकरणों की हफ्तों से कमी है। स्पेन में संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है और डॉक्टरों की संख्या घट रही है। कई डॉक्टर और नर्स वायरस की चपेट में आ रहे हैं। मैड्रिड के ला पाज हॉस्पिटल में पैट्रीशिया के साथ काम करने डॉक्टरों और नर्सों ने कहा कि हम टूटते-बिखरते जा रहे हैं। हमें और डॉक्टर और स्वास्थ्य उपकरण चाहिए। 14 फ्लोर के ला पाज हॉस्पिटल में 1000 बेड हैं। इस हॉस्पिटल के 11 फ्लोर केवल कोविड-19 के मरीजों से भरे हैं। अभी और जगह की जरूरत है। कम संक्रमण वाले मरीजों को हॉस्पिटल के जिम या टेंट हाउस में रखा जा रहा है।

इटली और स्पेन मेंसालों से स्वास्थ्य बजट में हो रहीकटौती का भी असर
इटली की तरह स्पेन का हेल्थ केयर सिस्टम की भी दुनिया में साख है, लेकिनकोरोना ने इस सिस्टम की कमियों को उजागर कर दिया है।कई सालों से स्वास्थ्य बजट में कटौती की जा रही थी।महामारी के बोझसे देशभर के अस्पताल दबे हुए हैं। कई अस्पतालों मेंबेड की कमी होने से मरीजों को जमीन पर लेटे हुए भी देखा जा सकता है। अस्पतालों के कमरे से लेकर गलियारे तक भरे हुए हैं।

स्पेन में 6,500 हेल्थ वर्कर कोरोना पॉजिटिव
स्पेन में 6,500 हेल्थ वर्करसंक्रमित हो चुके हैं, जो कुल संक्रमितों 49,515 का 13% हैं। यहां तीन हेल्थ वर्करकी मौत भी हो चुकी है।इटली में 74,386 संक्रमितों मेंकरीब 10% यानी7000 हेल्थ वर्कर शामिल हैं। इनमें से 19 की मौतहो चुकी है। यहां हेल्थ वर्कर सरकार से लगाकर सुरक्षा उपकरणों की मांग कर रहे हैं। डॉक्टरों ने एक खुले खत में लिखा, ‘‘हमें अकेला मत छोड़ें, हमारी मदद कर अपनी मदद करें।’’ वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के महानिदेशक ने हेल्थ वर्कर में बड़े पैमाने पर संक्रमण फैलने कीचेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अगर डॉक्टर और नर्स संक्रमित हुए तो बडे़ पैमाने पर लोग मारे जाएंगे।स्पेन और इटली में हालात इतने बिगड़ चुके हैं कि यहां पर हेल्थ वर्कर्सके लिए सूट और मास्क भी उपलब्ध नहीं हैं। कई वर्कर्सघर में प्लास्टिक का सूट बनाकर उसे इस्तेमाल में ला रहे हैं।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
स्पेन के बर्गोस में एक मरीज को अस्पताल पहुंचाने के बाद अपने हाथ सैनिटाइज करती हेल्थ वर्कर।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33Np43E

Post a Comment

0 Comments