मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा- घरों में नमाज पढ़ें, गले मिलने और हाथ मिलाने से परहेज करें, लॉकडाउन का पालन करें

पटना. देश में कोरोनावायरस से अब तक नौ लोगों की मौत हो चुकी है। बिहार में कोरोना के बढ़ते मामले और एक युवक की मौत के बादऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, इमारत-ए- शरिया, फुलवारीशरीफ शरिया, काउंसिल, जमाएत-ए- इस्लामी हिंद व बिहार सुन्नी वक्फ बोर्ड ने अपील की है कि मुसलमान भाई हालात को देखते हुए घरों में ही नमाज पढ़ें।

इसमें कहा गया है कि जुमा की नमाज कम तादाद में पढ़ने जाएं। बाकी लोग घर में ही जुमा की वाजिब नमाज के बदले जोहर की नमाज की तरह अदा कर लें। इमारत-ए- शरिया, फुलवारीशरीफ में इसको लेकर काजी व मुफ्तियों के साथ बैठक हुई, जिसमें अमीर-ए-शरियत मौलाना वली रहमानी ने कहा कि आपस में दूरी बनाए रखें। मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड के सचिव खालिद सैफुल्लाह रहमानी ने कहा कि मस्जिद में नमाजसंक्षिप्त और केवल फर्ज नमाज हो।

कार्पेट हटाकर फर्श पर नमाज पढ़ें: बिहार सुन्नी वक्फ बोर्ड

जुमाकी नमाज भी चार-पांच व्यक्ति ही अदा करें।जमाअते इस्लामी हिंद के अमीर व शरिया काउंसिल के अध्यक्ष जलालुद्दीन उमरी ने कहा कि घर से वजू बनाकर जाएं। हाथ मिलाने और गला मिलने से परहेज करें। मस्जिद की साफ-सफाई हो। कार्पेट और चटाई हटाकर फर्श पर नमाज पढ़ें। मस्जिद में हाइजीन का पूरा खयाल रखा जाए। बिहार सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष मो. इरशादुल्लाह ने कहा कि बिहार सरकार के लॉकडाउन का पालन करते हुए लोग घरों में ही नमाज अदा करें।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
प्रतीकात्मक तस्वीर।


from Dainik Bhaskar /bihar/patna/news/muslim-religious-leaders-said-read-prayers-in-homes-avoid-strangulation-and-join-hands-follow-lockdown-127035322.html

Post a Comment

0 Comments